Tuesday, June 25, 2024
More
    होमअंतरराष्ट्रीयलेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) अनिल चौहान बने देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस...

    लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) अनिल चौहान बने देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ

    भारत सरकार द्वारा लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत्त) को नए सी.डी.ए.स (चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ) नियुक्त किए गए हैं. रक्षा मंत्रालय की तरफ से प्राप्त सूचना के अनुसार, अनिल चौहान भारत सरकार के सैन्य मामलों से जुड़े विभाग के सचिव के पद पर भी कार्य करेंगे. और कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से अगले आदेश हाने तक वो ही यह पद संभालेंगे.

    बता दें कि पिछले वर्ष दिसंबर में भारत के प्रथम चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत की एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी. तभी से यह महत्वपूर्ण पद रिक्त था. लगभग 9 महीने के पश्चात इस पद पर नियुक्ति हुई है. इस पद के लिए कई और नामों पर चर्चा होती रही थी. लेकिन अब सभी प्रकार के अटकलों पर विराम लगाते हुए भारत सरकार ने अगले आदेश तक लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) अनिल चौहान को देश का नया सीडीएस नियुक्त किया.

    लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड)  अनिल चौहान अपने लगभग 40 वर्षों से अधिक के करियर में अनेक महत्वपूर्ण पदों पर रहे. उनका एक लंबा अनुभव रहा है, चाहे वो जम्मू-कश्मीर और उत्तर-पूर्व भारत में आतंकवाद विरोधी अभियान हो या  एन.एस.ए. अजीत डोभाल के मिलिट्री एडवाइजर की जिम्मेदारी हो. उन्होंने वर्ष 2021 तक भारतीय सेना में ईस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ रहे हैं. 1 सितंबर 2019 को लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवणे सेवा निवृत होने के पश्चात पद संभाला था. उन्हें देश के लिए अपनी विशिष्ट सेवा देने के कारण ही विभिन्न पुरस्कार जैसे कि  परम विशिष्ट सेवा मेडल, उत्तम युद्ध सेवा मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल, सेना मेडल और विशिष्ट सेवा मेडल से नवाजा गया है. इसके अतिरिक्त लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड)  अनिल चौहान भारतीय सेना के डी.जी.एम.ओ. भी रह चुके हैं. साथ उन्होंने अंगोला में संयुक्त राष्ट्र के मिशन में भी काम कर चुके हैं.

    नए सी.डी.एस. अनिल चौहान का जन्म उत्तराखंड में हुआ था. वह नेशनल डिफेंस अकेडमी, खडकवासला और इंडियन मिलिट्री अकेडमी, देहरादून के छात्र रहे और 1981 में भारतीय सेना की 11 गोरखा राइफल्स में भर्ती हुए और मेजर जनरल के रैंक के अधिकारी के रूप में अनिल चौहान को  उत्तरी कमान में महत्वपूर्ण बारामुला सेक्टर में एक इन्फैंट्री डिवीजन की कमान संभालने की जिम्मेदारी सौपी गई थी. उसके पश्चात लेफ्टिनेंट जनरल के रूप में उन्होंने उत्तर पूर्व में एक कोर की जिम्मेदारी संभाली, इसके बाद वह सितंबर 2019 से पूर्वी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ के पद पर नियुक्त हुए और फिर मई 2021 में सेवा निवृत हुए.

    संबंधित आलेख

    कोई जवाब दें

    कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
    कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

    सबसे लोकप्रिय